A learning place स्कूल की तैयारी

हर साल सलूम्बर से किशोरियां अपनी पढ़ाई को निरंतर रखने के लिये तरीके निकलती है | लडकियों की रेगुलर पढ़ाई कई कारणों से छुट जाती है | लडकियों को पढ़ाना जरुरी न समझा जाता |

मैथूडी एवं मालपुर गाँव में लड़कियों की स्थिति

मेरा नाम शिल्पा है | मैं विशाखा संस्था में काम करती हूँ | हम लड़कियों के साथ अधिकार और समूह निर्माण का काम करते हैं | बातचीतों में हमारे मुख्य मुद्दे बराबरी, विभन्न पहचान आधारित

Lockdown & Distress of migrant youth in Kota

On 24th March 2020, a nationwide lockdown was announced by the government due to the COVID-19 outbreak. At the time when the lockdown was initiated, more than 40,000 young students were stuck in hostels and

मेरे गाँव में लड़कियों की स्थिति

दिनांक 1 जुलाई 2020  को पिलुड़ा गांव में 14 से 24 वर्ष की अविवाहित और विवाहित लड़कियां (जो पिलुडा गांव की बहुए) के साथ बातचीत के गई । उन सभी की शैक्षिक स्थिति, रिश्तों,  स्वास्थ्य,

शादी, मातृत्व और आत्मनिर्भरता

भारत की वित्त मंत्री श्री मति निर्मला सीतारमण ने वर्ष 20-21 के वित्तीय भाषण में कहे विवरण के आधार पर महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 4 जून 2020 को एक टास्क फाॅर्स का गठन

सम्मान यात्रा

हमको कहनी अपनी बात 20 दिसंबर से 31 दिसंबर 2019 के बीच विशाखा के सलूम्बर तहसील की १० पंचायतों के २५ गाँवों की ४५ किशोरियों का सम्मान किया गया | हर साल की तरह इस

संविधान और हम

संविधान और हम गुणवत्ता वाली जिंदगी जीने के लिए सविधान की समझ बेहद जरूरी है | यही वह तरीका है जो हमको अधिकार और कर्तव्यों के साथ लेकर आगे बढ़ता है | बहुत बार सामजिक